रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय, जबलपुर - Aajbhaskar

खबरे

Tuesday, June 11, 2024

रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय, जबलपुर


माननीय मुख्यमंत्री जी से रादुविवि कुलगुरु प्रोफेसर वर्मा ने की भेंट


आज भास्कर : जबलपुर 11 जून। माननीय मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव जी के विगत दिवस नगर प्रवास के दौरान कुलगुरु प्रो. राजेश कुमार वर्मा ने विश्वविद्यालय परिवार की ओर से माननीय मुख्यमंत्री जी का पुष्प गुच्छ से स्वागत करते हुए उन्हें विश्वविद्यालय के कौशल विकास संस्थान द्वारा निर्मित अंगवस्त्र भेंट किया। साथ ही विश्वविद्यालय में किए जा रहे नवाचार की गतिविधियों से अवगत कराया। कुलगुरु प्रो. वर्मा जी ने माननीय मुख्यमंत्री जी को विश्वविद्यालय द्वारा परीक्षा समाप्ति के दिन ही घोषित किए गए 04 परीक्षा परिणामों एवं परीक्षा समाप्ति के दूसरे दिन घोषित किए गए 01 परीक्षा परिणाम की भी जानकारी दी।


माननीय मुख्यमंत्री जी ने विश्वविद्यालय द्वारा शीघ्र परीक्षा परिणामों को घोषित किए जाने के प्रयासों पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए विश्वविद्यालय में नवाचार बढ़ाने एवं विश्वविद्यालय को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में एक सराहनीय कदम बताया ।

..............................................................................................................................

वीरांगना रानी दुर्गावती और रानी अवंती बाई पर निर्मित शार्ट फिल्मांे को मिली सराहना

- संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार तक पहुंची रादुविवि के पत्रकारिता विभाग द्वारा निर्मित शार्ट फिल्म

जबलपुर 11 जून। मध्यप्रदेष षासन उच्च षिक्षा विभाग के आदेषानुसार माननीय कुलगुरू प्रो. राजेष कुमार वर्मा के मार्गदर्षन व कुलसचिव डॉ. दीपेष मिश्रा के निर्देषानुसार रानी दुर्गावती विष्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग द्वारा वीरांगना रानी दुर्गावती एवं वीरांगना रानी अवंती बाई लोधी के जीवन पर आधारित लघु वृत्तचित्र (षार्ट फिल्म) का निर्माण किया गया। पत्रकारिता विभागाध्याक्ष प्रो. धीरेन्द्र पाठक के निर्देषन और विभाग के अतिथि विद्वान डॉ. संजीव श्रीवास्तव की स्क्रिप्टिंग में निर्मित शार्ट फिल्म को मध्यप्रदेष षासन उच्च षिक्षा विभाग के माध्यम से संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार को भेजा गया जहां इस चर्चित शार्ट फिल्म को काफी सराहना मिली।

इस संबंध में माननीय कुलगुरू प्रो. राजेेष कुमार वर्मा ने बताया कि भारत की पवित्र भूमि ऐसे वीर-वीरांगनाओं की कहानियों से भरी पड़ी है, जिन्होंने प्राचीन समय में भारत की अस्मिता की रक्षा और नारी कल्याण के अनुकरणीय कार्य किये। सन 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम से लेकर देश के आजाद होने तक भिन्न- भिन्न रूप में अपना अहम योगदान दिया, लेकिन भारतीय इतिहासकारों ने हमेशा से उन्हें नजरअंदाज किया है। बहुत से ऐसे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी हैं जिनके अहम योगदान को न तो सरकारें याद करती हैं न ही समाज याद करता है। लेकिन उनका योगदान भी देश के अग्रणी श्रेणी में गिने जाने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों से कम नहीं है। ऐसी ही स्वतंत्रता संग्राम की प्रमुख सूत्रधार रहीं वीरांगना अवंती बाई लोधी और मुगलकाल में नारी अस्मिता का प्रतीक और जन-जन में लोकप्रीय रानी, वीरांगना दुर्गावती के जीवन के विभिन्न पहलुओं को इस शार्ट फिल्म के माध्यम से लोगों के समक्ष पूरी कुषलता के साथ प्रस्तुत किया गया है। पत्रकारिता विभागाध्यक्ष प्रो. धीरेन्द्र पाठक ने बताया कि वीरांगना रानी दुर्गावती एवं वीरांगना रानी अवंती बाई के जीवन पर आधारित इस शार्ट फिल्म में प्रसिद्ध इतिहासकार डॉ. आनंद सिंह राणा और प्रसिद्ध साहित्यकार श्री मोहन शषि ने इन वीरांगनाओं के जीवन की महत्वपूर्ण अनछुई दास्तां को सभी के सामने कुषलता पूर्वक प्रस्तुत किया है। इस शार्ट फिल्म का डीपीओ डॉ. शैलेष प्रसाद एवं वाइस ओवर शोध छात्र अमरकांत चौधरी द्वारा किया गया। इस फिल्म के निर्माण में पत्रकारिता विभाग के समस्त स्टॉफ का सक्रिय सहयोग रहा।